logo

सियाहत

यात्रा वृत्तांत
Paperback
Hindi
9789357757652
1st
2024
132
If You are Pathak Manch Member ?

सियाहत -

विभिन्न ऐंगल्स से अदेखा सौन्दर्य सामने रख देने की फ़ोटोग्राफ़िक स्किल्स और आत्मीय स्पेस में रचनात्मक आकुलता के जोड़ से जो शाब्दिक दृश्य बनते हैं, वही सियाहत है। यात्राओं की बाबत इंटरनेट से आक्रान्त हमारे सौन्दर्यबोध को अपने यात्रा-वृत्तान्त से आलोक रंजन ने कुरेदा भी है और विस्तार भी दिया है।

‘विविधता में एकता’ पर गर्व करते हम दरअसल उत्तर भारत-दक्षिण भारत बोलते हुए कितनी सांस्कृतिक निस्संगता बरतते हैं, उसे इंगित कर साझी विरासतों से परिचित कराती यह किताब निविड़तम स्थानों में ले जाती है। मुतुवान आदिवासियों की अज्ञात दुनिया की सैर रोमांच और जोखिम से भरी होने के साथ हमारे सँभालकर तहाये गये यात्रा-अनुभवों में सिलवटें भी ले आती है ।

चित्रात्मक सौन्दर्य से पूरम्पूर पुस्तक में सांस्कृतिक-ऐतिहासिक विमर्श के लिए लेखक ने निश्चित ही कई अन्तःसूत्र पाठकों को प्रदान किये हैं ।

- दिव्या विजय

आलोक रंजन (Alok Ranjan )

आलोक रंजन बिहार में जन्म व प्रारम्भिक शिक्षा । दिल्ली विश्वविद्यालय से हिन्दी में एम.ए. ।2005 के आसपास छपने की शुरुआत । कहानी, कविताओं के अतिरिक्त अख़बारों में सामयिक लेखन। सी.आई.ई. दिल्ली विश्व

show more details..

मेरा आंकलन

रेटिंग जोड़ने/संपादित करने के लिए लॉग इन करें

आपको एक समीक्षा देने के लिए उत्पाद खरीदना होगा

सभी रेटिंग


अभी तक कोई रेटिंग नहीं