logo

अमोक्ष

Hardbound
Hindi
9789357757607
2nd
2024
156
If You are Pathak Manch Member ?

अमोक्ष - ज्ञानपीठ पुरस्कार प्राप्त कथाकार प्रतिभा राय ओड़िया के समकालीन कथाकारों में सबसे अधिक जानी-मानी और पढ़ी जानेवाली लेखिका हैं। उनकी कृतियाँ विभिन्न भारतीय भाषाओं में नियमित रूप से सामने आती रही हैं। प्रतिभा राय की कहानियाँ और उपन्यास सामाजिक बुराइयों और अन्याय की जमकर निन्दा करते हैं। वे हमें अन्धी धार्मिकता के पीछे की बुराइयाँ दर्शाते हैं, जोकि मानव बन्धुत्व के हमारे प्रयासों को नकारते हैं। यद्यपि सच्ची आध्यात्मिकता में विश्वास उनके लेखन ने हमेशा स्वीकारा है, उनकी बहुत सारी कहानियाँ रूढ़िवादी परम्परा और अधिकारिता के दावों के बारे में सवाल उठाती दिखाई देती हैं। प्रतिभा राय की कहानियाँ जीवन की अन्तरंग अनुभूतियों से सराबोर तथा मानवता के पक्ष में हमेशा तटस्थ होकर खड़ी दिखाई देती हैं और जीवन के उतार-चढ़ाव, आशा-निराशा और उज्ज्वल भविष्य की कामना में रत मानव के जीवन-संघर्ष को व्याख्यायित करती हैं। इस संग्रह की कहानियाँ भी जीवन के इन्हीं रंगों को सामने लाती हैं। कहानियों का सजीव अनुवाद पाठकों को मूल रचना पढ़ने का आनन्द देगा। सर्वथा पठनीय व संग्रहणीय कृति।

राजेन्द्र प्रसाद मिश्र (Rajendra Prasad Mishra)

राजेन्द्र प्रसाद मिश्रजन्म : 6 अप्रैल 1955, रायरंगपुर, मयूरभंज (ओड़िशा)।एम.ए. (हिन्दी) व पीएच.डी. (जेएनयू, नयी दिल्ली) । अब तक ओड़िया से हिन्दी में अनूदित कुल 90 पुस्तकें प्रकाशित।विश्व हिन्दी सचिवालय

show more details..

प्रतिभा राय (Pratibha Rai)

डॉ. प्रतिभा राय डॉ. प्रतिभा राय ने रेवेंशा कॉलेज, कटक से विज्ञान में स्नातक की उपाधि प्राप्त की एवं पीएच.डी. हेतु शिक्षा शास्त्र उनके अध्ययन का क्षेत्र रहा। कई वर्षों तक रेवेंशा कॉलेज में अध्य

show more details..

मेरा आंकलन

रेटिंग जोड़ने/संपादित करने के लिए लॉग इन करें

आपको एक समीक्षा देने के लिए उत्पाद खरीदना होगा

सभी रेटिंग


अभी तक कोई रेटिंग नहीं

संबंधित पुस्तकें