logo

अहमद नदीम क़ासमी : एक शायर-एक आदमी

शायरी / ग़ज़ल
Hardbound
Hindi
9788181435194
78
If You are Pathak Manch Member ?

सुरेश सलिल (Suresh Salil)

सुरेश सलिलकवि, अनुवादक, गद्यकार ।प्रकाशित कृतियाँ : (कविता) करोड़ों किरनों की ज़िन्दगी का नाटक सा, भीगी हुई दीवार पर रोशनी, खुले में खड़े होकर, मेरा ठिकाना क्या पूछो हो, रंगतें, (अनुवाद) रोशनी की

show more details..

मेरा आंकलन

रेटिंग जोड़ने/संपादित करने के लिए लॉग इन करें

आपको एक समीक्षा देने के लिए उत्पाद खरीदना होगा

सभी रेटिंग


अभी तक कोई रेटिंग नहीं