logo

कंप्यूटर का सहज बोध

सूचना प्रौद्योगिकी
Hardbound
Hindi
9788181430236
2nd
2017
32
If You are Pathak Manch Member ?


सुरेश सलिल (Suresh Salil)

सुरेश सलिलकवि, अनुवादक, गद्यकार ।प्रकाशित कृतियाँ : (कविता) करोड़ों किरनों की ज़िन्दगी का नाटक सा, भीगी हुई दीवार पर रोशनी, खुले में खड़े होकर, मेरा ठिकाना क्या पूछो हो, रंगतें, (अनुवाद) रोशनी की

show more details..

मेरा आंकलन

रेटिंग जोड़ने/संपादित करने के लिए लॉग इन करें

आपको एक समीक्षा देने के लिए उत्पाद खरीदना होगा

सभी रेटिंग


अभी तक कोई रेटिंग नहीं